Monday, 5 August 2013




                                        इक  ख़्वाब  है  ज़रूरी 






                                    इक  ख़्वाब  है  ज़रूरी  सबके  जीने  के  लिए ,
                                            ख़्वाब  वो  बन्द  आँखों  का  नहीं ,
                                             मग़र  वो  जो  रातों  को  जगाये ,
                                     उस  ख़्वाब  में  जागने  का  नशा  और  है.….

                                        यहाँ  फैला  हो  कितना  ही  अँधेरा  चाहे ,
                                                इक  रोशनी  आगे  चलती  है ,
                                               माँ  बाप  के  दिल  से  निकली ,
                                       हर  राह  दिखाने  वाली  वो  दुआ  और  है.…

                                     लेकर  सहारा  किसी  और  का  हम  क्यूँ  चलें ,
                                       चलते  चलते  गिरना , गिर  कर  उठना ,
                                                और उठ  कर लड़खड़ाते हुए,
                                      एक  बार  फिर  चलने  का  मज़ा  और  है.….

                                      है  माना  मुश्किल  भागना  सपनों  के  पीछे ,
                                            नामुमकीन  लेकिन  नहीं  कुछ  भी ,
                                               कोशिशें  कामयाब  होती  ही  हैं ,
                                     सपने  फिर  हकीक़त  होने  का  समां  और  है.…

                                 
                                                                                                     नम्रता  झा





1 comment:

राकेश कौशिक said...

"नामुमकीन लेकिन नहीं कुछ भी
कोशिशें कामयाब होती ही हैं"